What Is Attitude ? | ऐटिटूड क्या है हिंदी में ?

attitude photos, what is attitude

Attitude Kya Hai ?

(No.1)Attitude” एक संज्ञा है जिसका मतलब है व्यक्ति या समूह के मानसिक स्थिति या मानसिक रवैया। यह व्यक्ति के विचार, भावनाएं, व्यवहार और उसके सामाजिक और आध्यात्मिक जीवन के प्रति उसकी दृष्टि तथा निष्कर्ष को दर्शाता है।

(No.2) आमतौर पर, व्यक्ति का अटीट्यूड उसके विचारों, धृष्टता, धारणाओं, विश्वासों, समझौतों, व्यवहार, वात्सल्य और सामाजिक नायकत्व को दर्शाता है। यह व्यक्ति के अनुभवों, संदर्भों, परिपेक्ष्य और जीवनसंग्राम के प्रति उसके दृष्टिकोण को प्रभावित करता है।

(No.3) अटीट्यूड अपने आप में एक बहुत व्यापक शब्द है जो विभिन्न संदर्भों में अलग-अलग अर्थ में प्रयोग हो सकता है। यह एक व्यक्ति की व्यक्तिगत विशेषता हो सकती है जो उसके व्यक्तित्व, संबंध और उसके साथी लोगों के साथ कैसे व्यवहार करती है।

(No.4) एक सकारात्मक अटीट्यूड वाले व्यक्ति का धृष्टता, संघर्ष और समस्याओं का सामना करने की क्षमता में सुधार होता है, जबकि एक नकारात्मक अटीट्यूड वाले व्यक्ति को आशाओं, उत्साह और सफलता के रास्ते में बाधा हो सकती है।

(No.5) अटीट्यूड व्यक्ति के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, और यह उनके व्यक्तित्व, समाजिक संबंध, और सफलता पर प्रभाव डालता है। सकारात्मक अटीट्यूड वाले व्यक्ति को अधिक आत्मविश्वास, संघर्ष की क्षमता, और सकारात्मक सोच का सामर्थ्य होता है, जो उसके सफल जीवन की ओर प्रोत्साहित करता है।

(No.6) इसलिए, अटीट्यूड एक व्यक्ति के विचारों, भावनाओं और व्यवहार पर अधिकारी होता है और उसके जीवन के प्रति उसके दृष्टिकोण को निर्धारित करता है।

Attitude Kya Hota Hai ?

  • व्यवहार

  • सोचने का तरीका

  • भावनायें

  • शारीरिक भाषा

  • प्रतिक्रिया

  • व्यक्तित्व

Attitude – व्यवहार

  • व्यक्तिगत व्यवहार – व्यक्तिगत व्यवहार संबंधी होता है, जो एक व्यक्ति के रूप में उसके व्यक्तिगत जीवन, स्वभाव, और संवेदनशीलता के साथ जुड़ा होता है।

  • सामाजिक व्यवहार – सामाजिक व्यवहार संबंधी होता है जो व्यक्ति और समूहों के बीच सामाजिक संबंधों, संस्कृति, समाजी नियमों, और आचार-विचारों से संबंधित होता है।

सोचने का तरीका

  • सोचने का तरीका मनुष्य के विचारों, अनुभवों और ज्ञान के साथ उसकी मनस्तित्व पर निर्भर करता है। सोचने का तरीका व्यक्ति से व्यक्ति भिन्न हो सकता है। 

  • सोचने का तरीका अध्ययन, ग्रहणशीलता और ज्ञान के संचय के आधार पर विकसित होता है। जब हम नई जानकारी प्राप्त करते हैं और विभिन्न विचारधाराओं और परिप्रेक्ष्यों को समझते हैं, तो हमारी सोच विस्तृत और समृद्ध होती है।

  • अपने विचारों को विमर्श करना महत्वपूर्ण है। यह अपने विचारों के पीछे के कारणों और प्रमाणों को समझने में मदद करता है और सही निर्णय लेने में सहायक होता है।

भावनायें

  • भावनाएँ एक व्यक्ति के मन में उत्पन्न होने वाले भाव, भावनात्मक अनुभव और भावुक अवस्थाएं होती हैं। 

  • ये मन की उन भावनाओं को संक्षेप्त रूप में व्यक्त करती हैं जो हमारे अंतरंग अनुभवों, भावों और विचारों के पीछे होती हैं।

  • भावनाएँ मानसिक अवस्थाएं होती हैं जिनमें व्यक्ति दुख, आनंद, खुशी, प्रेम, घृणा, भय, उत्साह, विश्वास आदि के विभिन्न भावों का अनुभव करता है।

  • प्रेम एक उच्च भावना है जिसमें व्यक्ति दूसरों के प्रति आनंद और स्नेह का अनुभव करता है।

  • दुःख एक नीच भावना है जिसमें व्यक्ति कष्ट, व्यथा, और दुख का अनुभव करता है।

  • भय एक भावना है जिसमें व्यक्ति किसी आने वाले खतरे या खुद को खोने का भय अनुभव करता है।

  • उत्साह एक ऊर्जावान भावना है जिसमें व्यक्ति उत्साहित और प्रोत्साहित महसूस करता है।

  • घृणा एक नकारात्मक भावना है जिसमें व्यक्ति दूसरों के प्रति अनद्युति और घृणा का अनुभव करता है।

  • सम्मोहन एक आकर्षक भावना है जिसमें व्यक्ति आकर्षित होता है और प्रेरित होता है।

  • विश्वास एक विशेष भावना है जिसमें व्यक्ति किसी के प्रति विश्वास का अनुभव करता है।

  • शांति एक उच्च भावना है जिसमें व्यक्ति मानसिक और भावनात्मक तृप्ति का अनुभव करता है।

 

Also Share

What Is Attitude ? | ऐटिटूड क्या है हिंदी में ?
Scroll to top